तथ्य जाँचः क्या धूप में 30 मिनट बैठने से अवसाद की समस्या कम होती है?

Published on:

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

सारांश 

एक सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए दावा किया जा रहा है कि धूप यानी कि सूरज की रौशनी में 30 मिनट बैठने से अवसाद की समस्या ठीक हो जाती है। जब हमने इस पोस्ट का तथ्य जाँच किया तब पाया कि यह दावा आधा सत्य है।

rating

दावा 

एक सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए दावा किया जा रहा है कि धूप में 30 मिनट बैठने से अवसाद की समस्या ठीक हो जाती है।

depression

तथ्य जाँच 

अवसाद क्या है?

अनुसंधानकर्ताओं के लिए अवसाद हमेशा से एक शोध का विषय रहा है। अवसाद एक आम लेकिन गंभीर बीमारी है, जो किसी भी व्यक्ति की मानसिक स्थिति को नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है। अवसाद कई शारीरिक एवं भावनात्मक समस्याओं का कारण बन सकता है।

धूप और अवसाद में क्या संबंध है?

शोध बताते हैं कि धूप के संपर्क में कम रहने से संज्ञानात्मक बधिरता (Cognitive Impairment) होने की संभावना बढ़ जाती है। इसके साथ ही पर्यावरण और जीवनशैली उन लोगों को ज्यादा प्रभावित करती है, जो सीजनल अफेक्टिव डिसऑर्डर (SAD) और अन्य प्रकार के अवसाद की समस्या से ग्रसित हैं। 

खासतौर पर सीजनल अफेक्टिव डिसऑर्डर (एसएडी) की समस्या धूप के संपर्क में कम आने से जुड़ी हुई है, जो सामान्यतः ठंड के मौसम में होती है क्योंकि इस दौरान सूरज की किरणें कमजोर हो जाती हैं और लोग घरों में ज्यादा रहते हैं। यही कारण है कि वे बाहरी दूनिया के संपर्क में कम आते हैं और उन पर सूरज की किरणें भी नहीं पड़ती, जिस कारण अवसाद की समस्या ठंड के मौसम में बढ़ जाती है, जिसका संबंध धूप से है। 

अवसाद को प्रभावित करने वाले सिद्धांतों में से एक शरीर के मौसमी चक्रों पर भी आधारित है क्योंकि ज्यादातर Suprachiasmatic nuclei (SCN) द्वारा शरीर के circadian rhythms के नियमन पर आधारित है। SCN को शरीर के तापमान और शारीरिक गतिविधि जैसे विभिन्न कारकों द्वारा नियंत्रित किया जाता है लेकिन विशेष रूप से रेटिनल सेंसर द्वारा प्राप्त प्रकाश के जरिए संशोधित किया जाता है, जो 477 नैनोमीटर तरंग दैर्ध्य (Wave length) के करीब होने चाहिए। SCN नींद, शरीर का तापमान, रक्तचाप, पाचन, प्रतिरक्षा प्रणाली और विभिन्न हार्मोनल प्रणालियों को नियंत्रित करता है। शोध इस बात को स्पष्ट करता है कि सूरज की रौशनी ना केवल अवसाद को कम करने में सहायक होती है बल्कि शारीरिक गतिविधियों को सुचारु ढंग से चलाने में भी मदद करती है। 

साथ ही सूरज की किरणें मेलाटोनिन हार्मोन के स्तर को भी नियंत्रित करती हैं, जिससे सोने-उठने का चक्र संतुलित रहता है लेकिन सूरज की किरणें कम होने के कारण सोने-उठने का चक्र असंतुलित हो जाता है, जो insomnia (रात को नींद नहीं आना) या hypersomnia (दिन के वक्त नींद आना) का कारण बनता है 

क्या ज्यादा वक्त तक धूप में बैठना हानिकारक हो सकता है? 

शोध बताते हैं कि ज्यादा वक्त तक धूप में बैठना भी हानिकारक हो सकता हैखासतौर पर गर्मी के मौसम में धूप के संपर्क में रहने से शरीर पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं। जिन लोगों को बैचेनी या व्यर्थ में तनाव लेने की आदत होती है, उन्हें विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता हो सकती है। उच्च तापमान कोर्टिसोल हार्मोन के स्तर को बढ़ा देता है, जो तनाव के लक्षणों को खराब कर सकता है या बार-बार पैनिक अटैक आने की संभावना को भी बढ़ा सकता है। इस शोध के अनुसार गर्म मौसम या धूप में ज्यादा वक्त तक रहना आक्रामकता और उत्तेजना को बढ़ा सकता है। यह उन लोगों के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है, जो मानसिक रुप से स्वस्थ्य नहीं रहते हैं। 

Psychologist

इस दावे के बारे में जब हमने मनोवैज्ञानिक डॉ. बिंदा सिंह से बात की, तब उन्होंने बताया कि अवसाद केवल धूप की रौशनी में बैठने से ठीक नहीं होता लेकिन धूप की रौशनी अवसाद की संभावनाओं को कम करने में अवश्य सहायक होती हैं। ठंड के मौसम में जब सूरज की किरणें तीव्र नहीं होती हैं और कई-कई दिनों तक सूरज नहीं निकलता है, तब कुछ लोगों में अवसाद के लक्षण पाए जाते हैं। इसके अलावा जिन देशों में सूरज नहीं निकलता है, वहां के लोगों में भी अवसाद होने की संभावना होती है लेकिन इसका यह अर्थ बिल्कुल नहीं है कि अवसाद को केवल धूप में बैठने से ठीक किया जा सकता हैं क्योंकि गर्मियों के मौसम में 30 मिनट से कम भी धूप के संपर्क में रहना हानिकारक हो सकता है क्योंकि सूरज की किरणें तीव्र होती हैं, जो अन्य शारीरिक परेशानियों को उतपन्न कर सकती है। साथ ही अवसाद से ग्रसित मरीजों का इलाज भी वर्तमान स्थिति को देखते हुए ही किया जाता है, जिसमें काउंसलिंग, दवाइयां आदि शामिल होती हैं। 

अतः उपरोक्त शोध पत्रों एवं चिकित्सक के बयान के आधार पर कहा जा सकता है कि पोस्ट में दिखाया जा रहा दावा आधा सत्य है क्योंकि सूरज की किरणें स्वास्थ्य के लिए लाभदायक तो होती हैं और अवसाद के संभावनाओं को भी कम करती हैं लेकिन केवल धूप में बैठने से अवसाद ठीक नहीं हो सकता। 

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Disclaimer
Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can further read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Saumya Jyotsna
Saumya Jyotsna
An award-winning journalist, Saumya brings out stories about grassroot level developments in the public health sector.

More in

Questions
Fact Check
Interviews
Stories
Videos

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

More in

Questions
Fact Check
Interviews
Stories
Videos

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

Last Updated on जून 9, 2023 by Neelam Singh

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.

150,373फैंसलाइक करें
1,187फॉलोवरफॉलो करें
250सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें
READ MORE

Subscribe to our newsletter

Stay updated about fake news trending on social media, health tips, diet tips, Q&A and videos - all about health