जानें भारत में मिलने वाले आलू चिप्स ब्रांड्स में सोडियम की सही मात्रा

potato chips

Last Updated on जनवरी 4, 2024 by Shabnam Sengupta

आलू के चिप्स भारत में एक पसंदीदा नाश्ता है, जिसका आनंद सभी उम्र के लोग लेते हैं। हालांकि, इन स्नैक्स के सेवन से जुड़े पोषण सामग्री और संभावित दुष्प्रभावों के बारे में जागरूक होना जरूरी है। इस लेख में हम भारत के शीर्ष 7 आलू चिप ब्रांड के बारे में आपको बताएंगे। इसके साथ ही उनके सोडियम स्तरों का विश्लेषण करेंगे और ज्यादा खाने से होने वाले इनके संभावित दुष्प्रभावों पर चर्चा करेंगे।

आलू के चिप्स का इतिहास 

जॉर्ज क्रुम ने 1850 के दशक में न्यूयॉर्क के साराटोगा स्प्रिंग्स में मून लेक होएट चिप्स में आलू के चिप्स का आविष्कार किया था। इन्हें तब बनाया गया था, जब एक ग्राहक ने फ्रेंच फ्राइज़ के बारे में शिकायत की थी इसलिए क्रुम ने आलू को पतला-पतला काटा, उन्हें कुरकुरा तला और नमकीन बनाया, जिससे स्नैक का जन्म हुआ जिसे अब हम आलू के चिप्स के रूप में जानते हैं।

आलू के चिप्स अलग-अलग सोडियम स्तर के साथ एक पसंदीदा स्नैक हैं। आमतौर पर प्रति 100-ग्राम चिप्स खाने में 450-500 मिलीग्राम तक की सोडियम की मात्रा हो सकती है। स्वाद वाले चिप्स, विशेष रूप से स्वादिष्ट या मसालेदार मसाला वाले चिप्स में सोडियम की मात्रा और भी अधिक हो सकती है। जबकि कभी-कभार सेवन किया जा सकता है। हालांकि अच्छी सेहत के लिए सोडियम और नमक का सेवन कम से कम करने की सलाह दी जाती है। विशेष रूप से आहार प्रतिबंधों या उच्च रक्तचाप जैसी स्थितियों वाले लोगों के लिए लेबल पढ़ना महत्वपूर्ण है।

भारत में हैं सात आलू चिप्स ब्रांड

ब्रांड (नमकीन क्लासिक चिप्स)सोडियम (100 ग्राम)
लेज़510 मिलीग्राम
बिंगो!573 मिलीग्राम
बालाजी वेफर्स385 मि.ग्रा 
अंकल चिप्स591 मिलीग्राम 
येलो डायमंड 428 मिलीग्राम
टू यम 670 मिलीग्राम
पार्ले 786 मिलीग्राम 

शरीर के लिए कितना नमक बहुत अधिक नमक है? 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के दिशानिर्देशों के अनुसार भारत में वयस्कों के लिए नमक (सोडियम) का अनुशंसित दैनिक सेवन लगभग 5000 मिलीग्राम या उससे कम है, जो लगभग एक चम्मच नमक के बराबर है। इसे अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए पर्याप्त माना जाता है।

क्या नमकीन आलू के चिप्स सेहट के लिए खराब होते हैं?

नमकीन आलू के चिप्स का अधिक सेवन करने पर स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इनमें सोडियम की मात्र ज्यादा होती है, जिनका अगर बड़ी मात्रा में सेवन किया जाए तो उच्च रक्तचाप, हृदय रोग जैसे स्वास्थ्य रोग उत्पन्न हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त आलू के चिप्स में आमतौर पर अस्वास्थ्यकर वसा और कैलोरी अधिक मात्रा में पाई जाती है, जिसके अधिक सेवन से वजन बढ़ता है। हालांकि अधिकांश लोगों के लिए कभी-कभार इनका आनंद लेना ठीक है, लेकिन समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए संयम बरतना और स्वस्थ नाश्ते के विकल्पों के साथ संतुलित आहार को शामिल करना आवश्यक है।

क्या आलू के चिप्स में बहुत नमक होता है?

आलू के चिप्स में आमतौर पर पर्याप्त मात्रा में नमक होता है। सटीक सोडियम सामग्री ब्रांड, स्वाद और मात्रा के आकार के आधार पर भिन्न होती है। औसतन, आलू के चिप्स की एक मानक 100-ग्राम सेवा में लगभग 450-500 मिलीग्राम सोडियम होता है। हालांकि स्वाद वाले आलू के चिप्स, विशेष रूप से नमकीन या मसालेदार मसाले वाले चिप्स में अक्सर सोडियम का स्तर और भी अधिक होता है। यह नमकीन उनके स्वाद का एक प्रमुख घटक है। सोडियम सेवन के बारे में चिंतित व्यक्तियों को कम मात्रा में आलू के चिप्स का सेवन करना चाहिए और विभिन्न नमक विकल्पों का पता लगाना चाहिए जिन्हें बेहतर आहार संतुलन के लिए आलू के चिप्स पर छिड़का जा सकता है।

क्या आलू के चिप्स स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हैं?

आलू के चिप्स को स्वस्थ नहीं माना जाता है। वे आमतौर पर कैलोरी, अस्वास्थ्यकर वसा और सोडियम में उच्च होते हैं। तलने की प्रक्रिया से ऐक्रिलामाइड्स, संभावित रूप से हानिकारक यौगिकों का निर्माण होता है। इसके अतिरिक्त चिप्स में अक्सर फाइबर और विटामिन जैसे आवश्यक पोषक तत्वों की कमी होती है। बार-बार सेवन करने से वजन बढ़ता है और हृदय रोग एवं उच्च रक्तचाप जैसी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। बेक्ड या एयर-पॉप्ड चिप्स या सब्जियों और साबुत अनाज जैसे नाश्ते के विकल्पों का चयन करना स्वस्थ आहार की तलाश करने वालों के लिए एक बेहतर विकल्प है। आलू के चिप्स का सेवन करते समय संयम बरतना महत्वपूर्ण है।

क्या आलू के चिप्स रक्तचाप बढ़ाते हैं?

हां, आलू के चिप्स रक्तचाप बढ़ाते हैं क्योंकि उनमें सोडियम (नमक) की मात्रा अधिक होती है। यह शरीर में पानी की मात्रा बढ़ा देता है, जिससे रक्त की मात्रा भी बढ़ जाती है यानी की रक्त पतला हो जाता है, जिससे रक्त वाहिकाओं और हृदय पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है। ऐसे में स्वस्थ रक्तचाप बनाए रखने के लिए आलू के चिप्स जैसे उच्च सोडियम वाले स्नैक्स की खपत को सीमित करने और कम सोडियम वाले स्नैक्स का सेवन कम करने और संतुलित आहार को शामिल करने की सलाह दी जाती है।

सोडियम रक्तचाप को कैसे बढ़ाता है?

सोडियम शरीर में अतिरिक्त तरल पदार्थ बनाए रखने के कारण रक्तचाप को बढ़ाता है। जब आप उच्च स्तर के सोडियम का सेवन करते हैं, तो यह आपके रक्तप्रवाह में पानी खींचता है, जिससे आपकी धमनियों में रक्त की मात्रा बढ़ जाती है। यह अतिरिक्त रक्त की मात्रा आपकी धमनियों की दीवारों पर अतिरिक्त दबाव डालती है, जिससे उच्च रक्तचाप होता है। समय के साथ लगातार बढ़ा हुआ रक्तचाप हृदय प्रणाली पर दबाव डाल सकता है और हृदय रोग और अन्य संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ा सकता है।

आलू के चिप्स में सोडियम के दुष्प्रभाव

अत्यधिक सोडियम के सेवन से कई प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभाव हो सकते हैंः

  • उच्च रक्तचापः हृदय रोग और आघात के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक।
  • द्रव प्रतिधारणः सोडियम आपके शरीर में पानी को बनाए रख सकता है, जिससे सूजन की समस्या हो सकती है।
  • गुर्दे की समस्याएंः समय के साथ, उच्च सोडियम का सेवन गुर्दे पर दबाव डाल सकता है, जो संभावित रूप से गुर्दे की बीमारी का कारण बन सकता है।
  • हड्डियों का स्वास्थ्यः अधिक सोडियम हड्डियों से कैल्शियम की कमी का कारण बन सकता है, जो संभावित रूप से ऑस्टियोपोरोसिस में योगदान कर सकता है।
  • पेट का कैंसरः कुछ अध्ययन नमक के ज्यादा सेवन और पेट के कैंसर के बीच एक संबंध का सुझाव देते हैं।

आलू के चिप्स एक स्वादिष्ट और सुविधाजनक नाश्ता है लेकिन संयमित मात्रा में ही। इसके संभावित दुष्प्रभावों के प्रति सचेत रहना महत्वपूर्ण है। लेबल पढ़ना, कम सोडियम स्तर और स्वस्थ वसा वाले ब्रांडों का चयन करना और नियंत्रण का अभ्यास करना आलू के चिप्स की खपत से जुड़े जोखिमों को कम करने में मदद करता है। 

अंततः, समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए एक संतुलित आहार जिसमें विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ शामिल करना चाहिए। 

Disclaimer: Medical Science is an ever evolving field. We strive to keep this page updated. In case you notice any discrepancy in the content, please inform us at [email protected]. You can futher read our Correction Policy here. Never disregard professional medical advice or delay seeking medical treatment because of something you have read on or accessed through this website or it's social media channels. Read our Full Disclaimer Here for further information.